LIC में आईपे मिनी और बीसी पटनायक होंगे नए MD, दिनेश भगत और प्रकाश चंद का नाम रिजर्व में

मुंबई– देश की सबसे बड़ी लाइफ इंश्योरेंस कंपनी भारतीय जीवन बीमा निगम (LIC) के दो नए MD के नामों की सिफारिश बैंक बोर्ड ब्यूरो ने कर दी है। अब इसके बाद अप्वाइंटमेंट ऑफ कैबिनेट कमिटी (एसीसी) से इन्हें मंजूरी मिलेगी। इसमें आईपे मिनी और बीसी पटनायक के नामों की सिफारिश की गई है। जबकि दो नाम रिजर्व में हैं। इसमें एक दिनेश भगत और दूसरे प्रकाश चंद हैं।  

दरअसल LIC में 4 MD का पद है। इसमें से एक MD का पद जनवरी में खाली हुआ था। टीसी सुशील कुमार की जगह पर एलआईसी हाउसिंग के सीईओ एस. के. मोहंती को 1 फरवरी को MD बनाया गया था। अब जून में LIC की दूसरे MD का पद खाली होगा। जून में इसके चेयरमैन एम.आर कुमार रिटायर होंगे। उनकी जगह पर एस.के मोहंती चेयरमैन की रेस में सबसे आगे हैं। उनके पास ढाई से तीन साल का कार्यकाल बचा होगा। हालांकि वर्तमान MD में मोहंती सबसे जूनियर हैं। पर उन्हें चेयरमैन इसलिए बनाया जाएगा क्योंकि उनके पास रिटायरमेंट के लिए काफी समय है। नियम के अनुसार 2 साल का जिनके पास समय होता है, वे चेयरमैन पद के दावेदार होते हैँ।  

मोहंती के चेयरमैन बनने के बाद जो MD की पद खाली होगी, उनकी जगह पर आईपे मिनी को नियुक्त किया जाएगा। उसके बाद जुलाई में विपिन आनंद रिटायर होंगे। उनकी जगह पर बीसी पटनायक को नियुक्त किया जाएगा। इसके बाद सितंबर में तीसरे MD मुकेश गुप्ता रिटायर होंगे और उनकी जगह पर रिजर्व नाम में से दिनेश भगत को लाया जाएगा। जबकि अगले साल रिटायर होने वाले राजकुमार की जगह पर प्रकाश चंद को लाया जाएगा।  

इस तरह देखा जाए तो अगले 3 सालों के लिए कम से कम एलआईसी के सभी टॉप पदों को सरकार भरने की तैयारी कर दी है। यहां तक कि अगले साल के लिए अभी से ही उसने नाम भी तय कर दिया है। एक तरह से एलआईसी में पूरा टॉप मैनेजमेंट नया हो जाएगा। राजकुमार के पास ही एलआईसी के आईपीओ की जिम्मेदारी है क्योंकि उनके पास काफी समय अभी है। इसी वित्त वर्ष में LIC का IPO आने की उम्मीद है। सरकार इसके जरिए 90 हजार करोड़ रुपए जुटाना चाहती है। 

एम.आर. कुमार मार्च 2019 में चेयरमैन बनाए गए थे। उससे पहले वे दिल्ली के जोनल मैनेजर थे। LIC के इतिहास में पहली बार किसी जोनल मैनेजर को चेयरमैन बनाया गया था। इससे पहले जो चेयरमैन बनते थे वे एमडी होते थे। मिनी आईपे हैदराबाद की जोनल मैनेजर हैं जबकि दिल्ली के जोनल मैनेजर दिनेश चंद्र भगत हैं।  

इससे पहले 2013 में भी कुछ ही महीनों में LIC का पूरा टॉप मैनेजमेंट बदला था। जून 2013 में एस.के. रॉय चेयरमैन बने थे। उससे पहले वे एक महीने एमडी रहे थे। तब सबसे सीनियर एमडी सुशोभन सरकार थे, लेकिन चेयरमैन एस.के. रॉय को बनाया गया। नई टीम में एमडी के रूप में वी.के. शर्मा, ऊषा सांगवान और एस.बी. मैनक आए थे। वी.के. शर्मा एलआईसी हाउसिंग फाइनेंस के एमडी थे। ऊषा सांगवान और एसबी मैनक ईडी थे। एस.के. रॉय की नियुक्ति 5 साल के लिए हुई थी, लेकिन उन्होंने जून 2016 जून में इस्तीफा दे दिया था। इसके बाद वीके शर्मा को चेयरमैन बनाया गया था।  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *