एचडीएफसी का असेट अलोकेशन फंड ऑफ फंड्स 30 अप्रैल को बंद होगा

मुंबई– देश की लीडिंग म्यूचुअल फंड कंपनी एचडीएफसी म्यूचुअल फंड ने असेट अलोकेटर फंड ऑफ फंड्स नाम से नया एनएफओ लांच किया है। फाइनेंशियल प्लानर्स का मानना है कि निवेशक लंबी अवधि में इस तरह के फंड में असेट अलोकेशन कर सकते हैं। यह एनएफओ फिलहाल खुला है और 30 अप्रैल को बंद होगा।  

एचडीएफसी असेट अलोकेशन फंड ऑफ फंड्स 40 से 80 पर्सेंट हिस्सा इक्विटी में निवेश करेगा। 10 से 50 पर्सेंट हिस्सा फिक्स्ड इनकम में और 10 से 30 पर्सेंट हिस्सा सोने में निवेश करेगा। इस स्कीमें डेट फंड की तरह टैक्स लगेगा। निवेशक इसमें 5 हजार रुपए से निवेश कर सकता है। इसके बाद वह 1 हजार रुपए के गुणक में निवेश कर सकता है।  

फंड मैनेजर निवेश के लिए फंडामेंटल पैमाने का उपयोग करेंगे। इसमें प्राइस टु अर्निंग (पीई), प्राइस टु बुक (पीबी), सरकारी प्रतिभूतियों की आय पर ब्याज आदि है जो इक्विटी में निवेश के लिए एक पैरामीटर्स होगा। इक्विटी में फंड मैनेजर 75 से 100 पर्सेंट लॉर्ज कैप, मिड कैप, फ्लैक्सीकैप और स्मॉल कैप में करेंगे। इसमें बैलेंस शून्य से 25 पर्सेंट हिस्सा टैक्टिकल अलोकेशन से इस स्कीम की अन्य कैटेगरी में होगा।  

इक्विटी अलोकेशन होने के बाद फंड मैनेजर 10-30 पर्सेंट हिस्सा सोने में निवेश करेंगे। यह रियल इंटरेस्ट रेट पर तय होगा। फाइनेंशियल प्लानर्स का कहना है कि इस तरह की स्कीम में यह एक बड़ा फायदा होता है कि फंड मैनेजर्स सभी असेट क्लास में कॉल लेता है और निवेशकों के लिए कोई टैक्स नहीं होता है। पहली बार के निवेशकों के लिए तो यह और अच्छा होता है।   

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *