कोरोना से हर घंटे 500 लोगों की हो रही है मौत, जून में भारत में हर दिन होंगी 2500 मौतें

मुंबई– दुनियाभर में कोरोनावायरस इन्फेक्शन से हुई मौतों ने शनिवार को तीस लाख का आंकड़ा पार कर लिया। पिछले हफ्ते दुनियाभर में हर दिन कोरोनावायरस इन्फेक्शन के करीब 7 लाख नए केस सामने आए। औसतन 12 हजार की रोज मौत हुई। यानी हर घंटे 500 मौतें कोरोना की वजह से हो रही हैं। उधर दूसरी ओर एक रिपोर्ट में दावा किया गया है कि कोरोना जून में अपने टॉप पर पहुंचेगा। इससे भारत में जून में हर दिन 2500 मौतें कोरोना से होंगी। यानी महीने में 75 से 80 हजार मौतें कोरोना से होंगी।  

वास्तविक संख्या अधिक भी हो सकती है, क्योंकि दुनिया के कई देशों में नए केस और मौतों के सही आंकड़े सामने नहीं आ रहे। ब्राजील में रोज तकरीबन 3,000 मौतें हो रही हैं। पिछले हफ्तों में दुनियाभर में हुई मौतों में हर चौथा व्यक्ति ब्राजील का रहा है। दुनियाभर में वैक्सीनेशन कैंपेन के बाद भी भारत और ब्राजील जैसे देशों में कोरोना विकराल रूप लेता जा रहा है। 

अस्पतालों में बिस्तर खाली नहीं है और लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। 2019 के अंत में चीन के वुहान से कोरोना शुरू हुआ और शुरुआती 10 लाख मौतें 8.5 महीने में हो गईं। यानी पिछले साल सितंबर महीने में ये आंकड़ा छू गया था। जैसे-जैसे देश लॉकडाउन से बाहर आते गए, मौतें बढ़ती गईं। इस साल 15 जनवरी को ही कुल 20 लाख मौतें दर्ज हो चुकी थीं। और शनिवार को यह आंकड़ा 30 लाख को पार कर गया। 

इन 15 महीनों में कोरोना की वजह से जितने लोगों की जान गई है, वह तो जमैका या आर्मेनिया की आबादी से भी अधिक है। 1980 से 1988 तक चले इरान-इराक युद्ध में हुई मौतों का तीन गुना है। इजरायल जैसे देशों को कोरोना वैक्सीनेशन का लाभ मिला है, पर दुनिया से महामारी खत्म होने के निशान अब तक तो नहीं दिख रहे। शुक्रवार को दुनियाभर में 8.29 लाख नए केस सामने आए, जो अब तक का एक दिन का सबसे बड़ा आंकड़ा है। 

महामारी को लेकर एक स्टडी में उम्मीद जताई गई थी कि कोरोना से निपटने में अमेरिका ही सबसे अच्छा काम करेगा। पर हुआ इसका उलट। अमेरिका में अब तक 5.66 लाख से ज्यादा मौतें कोरोना की वजह से हो चुकी हैं। इसकी समस्या की जड़ थे प्रेसिडेंट डोनाल्ड ट्रम्प, जो शुरुआत में इसे महामारी मानने तक तो तैयार नहीं थे। उन्होंने दुनियाभर में इसे रोकने के लिए किए गए प्रयासों का मजाक तक उड़ाया। हालांकि, बाद में ट्रम्प बोले की लोग घबराएं नहीं, इसलिए उन्होंने इसे ज्यादा महत्व नहीं दिया। 

ब्राजील 3.68 लाख मौतों के साथ दूसरे नंबर पर है। विशेषज्ञों का कहना है कि अगले कुछ हफ्तों में यहां पीक नहीं आने वाला। यानी मौतें बढ़ती ही जाएंगी। ब्राजील में तकरीबन हर दिन 3,000 से अधिक मौतें कोरोना के कारण हो रही है। दुनियाभर में हो रही चार मौतों में से एक मौत ब्राजील में हो रही है। अमेरिका में जो ट्रम्प ने किया, वहीं ब्राजील में प्रेसिडेंट जायर बोल्सोनारो ने किया। उन्होंने खतरे की अनदेखी की और लॉकडाउन की अपीलों को लगातार ठुकराया। मैक्सिको के हेल्थ डिपार्टमेंट के मुताबिक 12.6 करोड़ की आबादी वाले इस देश में 2.11 लाख मौतें हो चुकी हैं। उसका मानना है कि वास्तविक संख्या 3.30 लाख के करीब हो सकती है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.