नजारा का आईपीओ 175 गुना भरा, रिटेल का हिस्सा 74 गुना भरा

मुंबई– पहली गेमिंग कंपनी नजारा टेक का IPO तीसरे दिन रिकॉर्ड तोड़ रहा है। यह 175 गुना भर गया है। इसमें रिटेल का हिस्सा 74 गुना भरा है। नॉन इंस्टीट्यूशनल का हिस्सा 380 गुना भरा है। कर्मचारियों का हिस्सा 8 गुना भरा है। क्यूआईबी यानी क्वालीफाइड इंस्टीट्यूशनल बायर्स का हिस्सा 100 गुना भरा है।  

वैसे यह आईपीओ पहले दिन ही पूरी तरह भर गया था। पहले दिन 5 गुना से ज्यादा सब्सक्रिप्शन मिला था। दूसरी ओर सूर्योदय स्मॉल फाइनेंस बैंक का आईपीओ महज 2.33 गुना भरा है। इसमें कर्मचारियों का हिस्सा भी पूरा नहीं भरा है। रिटेल ने केवल 3 गुना ज्यादा पैसा लगाया है। नजारा ने महज 583 करोड़ रुपए के लिए 4-4 मर्चेंट बैंकर को रखा है। अमूमन इतने छोटे आईपीओ के लिए 2 मर्चेंट बैंकर ही काफी होते हैं।  

2018 में भी IPO के लिए मंजूरी मिली थी 

कंपनी ने इससे पहले सेबी के पास 2018 में डॉक्यूमेंट जमा कराया था। उसे सेबी से उस समय IPO के लिए मंजूरी भी मिल गई थी। लेकिन कंपनी उस समय IPO लाने में कामयाब नहीं हो पाई। इसमें क्यूआईबी के लिए 75% हिस्सा, अमीर निवेशकों (HNI) के लिए 15% और रिटेल निवेशकों के लिए केवल 10% हिस्सा रिजर्व है। लिस्टिंग के बाद कंपनी का मार्केट कैप करीबन 3,352 करोड़ रुपए होगा। 

कंपनी के कारोबार पर नजर डालें तो बहुत ही चौंकाने वाला मामला है। 31 मार्च 2018 को कंपनी का रेवेन्यू 181 करोड़ रुपए था। 2019 मार्च में यह 186 करोड़ रुपए जबकि 2020 में यह 262 करोड़ रुपए था। सितंबर 2020 तक यह 207 करोड़ रुपए था। इसके शुद्ध लाभ की बात करें तो यह 2018 में 1 करोड़ रुपए था। 2019 में 6.7 करोड़ रुपए था। 2020 मार्च तक यह 26 करोड़ रुपए के घाटे में चली गई और सितंबर 2020 में 10 करोड़ रुपए के घाटे में चली गई। 

कंपनी के इस कारोबार को देखें तो यह घाटे वाली कंपनी है। यह ठीक उसी तरह का कारोबार है जैसे ई-कॉमर्स में बड़े ब्रांड होते हैं पर कंपनियां घाटे में होती हैं। अभी फिलहाल प्रमोटर्स की होल्डिंग इसमें 24.16% है। IPO के बाद यह घट कर 20.7% हो जाएगी। यानी प्रमोटर्स की हिस्सेदारी भी कंपनी में कंट्रोल वाली मेजोरिटी में नहीं है।

कंपनी का IPO खुलने से पहले एंकर निवेशकों ने 261 करोड़ रुपए लगाया है। कंपनी ने 43 एंकर निवेशकों को कुल 23.73 लाख शेयर दिया है। यह शेयर 1,101 रुपए पर दिया गया है। इससे 261.31 करोड़ रुपए मिला था।नजारा टेक में देश के दिग्गज निवेशक राकेश झुनझुनवाला की हिस्सेदारी है। इन्हीं के नाम पर इस IPO को उछाला जा रहा है। हालांकि झुनझुनवाला के पोर्टफोलियो में ऐसे कई शेयर हैं जो घाटे में हैं। कंपनी मूल रूपसे छोटा भीम, मोटू पतलू जैसी गेमिंग सिरीज के लिए जानी जाती है।

अगर आप यह सोचते हैं कि किसी कंपनी का आईपीओ बहुत ज्यादा भर गया और उसमें मुनाफा मिलेगा तो यह गलत भी हो सकता है। लिस्टिंग के दिन हो सकता है आपको अच्छा मुनाफा मिले, लेकिन आईपीओ में आपको शेयर मिलना भी ऐसी स्थिति में मुश्किल होता है। 2017 के बाद सबसे ज्यादा भरने वाला आईपीओमिसेज बैक्टर का रहा है। 198 गुना यह इस साल भरा था। लेकिन आज इसका शेयर आईपीओ के भाव से नीचे कारोबार कर रहा है। यह 370 रुपए पर कारोबार कर रहा है। जबकि आईपीओ 386 रुपए पर आया था। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *