एलआईसी ने लांच की बचत प्लस योजना पॉलिसी

मुंबई– भारतीय जीवन बीमा निगम (एलआईसी) ने नॉन लिंक्ड बचत प्‍लस नामक नई योजना को लांच किया है। यह सुरक्षा तथा बचत का संयोजन प्रस्‍तुत करती है। यह योजना मृत पालिसीधारक के परिवार को मैच्योरिटी के पूर्व किसी भी समय वित्‍तीय सहायता प्रदान करती है। मैच्योरिटी के समय  पालिसीधारकों को  एकमुश्‍त राशि प्रदान करती है । एकल प्रीमियम अथवा 5 वर्षों की सीमित अवधि के लिए प्रीमियम का भुगतान कर सकता है।    

यह एजेंट या अन्‍य मध्‍यवर्ती संस्‍थाओं के माध्‍यम से ऑफलाईन और साथ ही, सीधे www.licindia.in वेबसाईट के माध्‍यम से ऑनलाईन खरीदी जा सकती है। इस योजना के अंतर्गत, एकल प्रीमियम तथा सीमित प्रीमियम भुगतान में से प्रत्‍येक के अंतर्गत उपलब्‍ध दो विकल्‍पों के अनुसार, मृत्‍यु पर बीमा राशि के चयन का विकल्‍प प्रदान किया गया है । पालिसी अवधि के दौरान बीमाधारक की मृत्‍यु के मामले में, बशर्ते कि पालिसी जारी हो, जोखिम के आरंभ होने की तिथि के बाद ‘’मृत्‍यु पर बीमा राशि’’ देय होगी ।   पांच पालिसी वर्षों की समाप्‍ति के बाद, परंतु मैच्योरिटी की निर्धारित तिथि के पूर्व मृत्‍यु होने पर यदि कोई हो उसके साथ ‘’मृत्‍यु पर बीमा राशि’’  देय होगी।  जहां मैच्योरिटी पर बीमा राशि मूल बीमा राशि के बराबर है। मैच्योरिटी की निर्धारित तिथि को बीमाधारक के जीवित होने पर, बशर्ते कि पालिसी जारी हो। 

न्‍यूनतम मूल बीमा राशि रू.1,00,000/- है, जिसमें कोई ऊपरी सीमा नहीं है। पालिसी अवधि, प्रवेश के समय आयु, मैच्योरिटी आयु आदि के लिए पात्रता शर्तें प्रस्‍तावक द्वारा प्रीमियम के भुगतान तथा तदनुसार चुने गए विकल्‍पों के अनुसार होंगी ।  प्रीमियम भुगतान के दोनों तरीकों के लिए उच्‍च मूल बीमा राशि पर छूट प्रस्‍तुत की गई है। यह योजना अपनी ऋण सुविधा के माध्‍यम से तरलता संबंधी जरूरतों का ध्‍यान रखती है। एलआईसी द्वारा इस नई योजना के अंतर्गत प्रस्‍तुत किए गए लचीले विकल्‍प, जो समाज के सभी वर्गों के लोगों की बदलती हुई आवश्‍यकताओं के अनुकूल हैं,  इस योजना की आकर्षक विशेषता हैं ।   

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *