तेजी से बढ़ रहा है ई-कॉमर्स बाजार, 8 लाख करोड़ रुपए का होगा बाजार

मुंबई– भारत का ई-कॉमर्स मार्केट तेजी से बढ़ रहा है। ग्लोबल फाइनेंशियल टेक्नोलॉजी कंपनी FIS की रिपोर्ट के मुताबिक, 2024 तक इसमें 84% की बढ़त आ सकती है। इसके करीब 8 लाख करोड़ रुपए होने का अनुमान है। रिपोर्ट में कहा गया है कि यह वृद्धि मोबाइल शॉपिंग से होगी। जो अगले 4 साल में सालाना 21% बढ़ने का अनुमान है। 

रिसर्च से पता चला है कि कोविड महामारी के दौरान डिजिटल कॉमर्स में तेजी आई है। भारत सहित कई देशों ने कोविड-19 की वजह से उपभोक्ता के व्यवहार में बड़ा बदलाव देखा गया है। वे अब ऑनलाइन शॉपिंग को ज्यादा प्राथमिकता दे रहे हैं। 

FIS के वर्ल्डपे, एशिया पैसिफिक के मैनेजिंग डायरेक्टर, फिल पोमफोर्ड ने कहा, “भारतीय ई-कॉमर्स इंडस्ट्री में कोविड-19 के कारण भारी उछाल आया है। इसमें भविष्य की ग्रोथ के लिए पर्याप्त संभावना है। ई-कॉमर्स की क्षमता अब केवल ट्रेडिशनल वेबसाइटों तक सीमित नहीं है। फिजिकल रिटेल भी अब डिजिटल दुनिया के साथ जुड़ रहा है।” 

FIS के वर्ल्डपे ने अपनी 2021 ग्लोबल पेमेंट रिपोर्ट में मौजूदा और फ्यूचर पेमेंट्स ट्रेंड्स के लिए 41 देशों के रुझानों शामिल किए हैं। भारत में ‘बाय नाउ, पे लेटर’ के चलते ऑनलाइन पेमेंट मैथड तेजी से ग्रो कर रहा है। 2020 में डिजिटल वॉलेट 40%, क्रेडिट कार्ड 15% और डेबिट कार्ड 15% के तौर पर ऑनलाइन पेमेंट के सबसे लोकप्रिय तरीके रहे। 

रिपोर्ट में डेटा से पता चलता है कि डिजिटल वॉलेट के साथ की गई खरीदारी से ऑनलाइन पेमेंट की बाजार हिस्सेदारी 2024 तक 47% तक बढ़ने की उम्मीद है। FIS की रिपोर्ट में पाया गया कि भारत में पॉइंट ऑफ सेल (POS) मार्केट में 2024 तक 41% की वृद्धि का अनुमान है। 

भारत में सबसे पसंदीदा इन-स्टोर पेमेंट मैथड 34% के साथ कैश लेने-देन है। इसके बाद डिजिटल वॉलेट 22% और फिर डेबिट कार्ड 20% पर है। रिपोर्ट के मुताबिक, 2024 तक सबसे पसंदीदा इन-स्टोर पेमेंट मैथड डिजिटल पेमेंट होगा। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.