ढाई लाख से एक करोड़ रुपए तक का बीमा देंगी कंपनियां, 70 साल तक के लोग ले सकेंगे लाभ

मुंबई– बीमा नियामक इरडा (Irdai) ने ग्राहकों की सहूलियत देने के लिए एक महत्‍वपूर्ण कदम उठाया है। इरडा ने सभी जनरल और हेल्थ इंश्योरेंस कंपनियों को 1 अप्रैल 2021 से स्टैंडर्ड पर्सनल एक्सीडेंट पॉलिसी बेचने को कहा है। इस स्टैंडर्ड पर्सनल एक्सीडेंट कवर का नाम है ‘सरल सुरक्षा बीमा’ है। इसके तहत इंश्योरेंस कंपनियां ढाई लाख रुपए से एक करोड़ रुपए तक का बीमा देंगी। खास बात यह है कि इन पॉलिसी की भाषा और शर्तें एक जैसी होंगी और 18-70 वर्ष तक के ग्राहक इसका लाभ ले सकेंगे। 

इसके पहले इरडा ने सभी बीमा कंपनियों को एक अप्रैल, 2021 से स्‍टैंडर्ड ट्रैवल पॉलिसी और स्टैंडर्ड होम इंश्योरेंस पॉलिसी लाने के लिए भी कहा था। इन पॉलिसियों में एक जैसे बेनिफिट होंगे। इन्हें अलग-अलग कंपनियां लॉच तो करेंगी, लेकिन इनमें भाषा और अन्य बातें बिल्‍कुल एक जैसी ही होंगी। इरडा के कहने पर ही एक जनवरी से सभी जीवन बीमा कंपनियों ने स्‍टैंडर्ड टर्म पॉलिसी शुरू की है। इसका नाम ‘सरल जीवन बीमा’ है। इसमें 5 लाख रुपए से 25 लाख रुपए तक सम इंश्‍योर्ड मिलता है। 

क्‍या हैं फीचर्स? 

इरडा ने स्‍टैंडर्ड पर्सनल एक्‍सीडेंट कवर के बारे में गाइडलाइंस जारी की हैं। इनके अनुसार, ”बताई गई रेंज के ऊपर बीमा कंपनियां खुद बीमित रकम के लिए पेशकश कर सकती हैं। अगर पॉलिसी की सभी शर्तें एक जैसी हैं तो वे प्रोडक्‍ट का वही नाम रख सकती हैं।” पर्सनल एक्‍सीडेंड इंश्‍योरेंस में बेसिक कवर मिलेगा। 

इसमें पॉलिसीधारक की दुर्घटना में मौत होने पर परिवार पूरी बीमा राशि को क्‍लेम कर सकता है। शर्त यह है कि मौत दुर्घटना की तारीख से 12 महीनों के भीतर हो। पूरी तरह विकलांगता के मामले में चोट की गंभीरता को देखते हुए बीमा कंपनियां बेनिफिट का भुगतान करेंगी। 

सरल सुरक्षा बीमा में पॉलिसीधारक को चोट लगने से काम न करने कारण आमदनी को हुए नुकसान की भरपाई की जाएगी। यह प्रति सप्‍ताह सम इंश्‍योर्ड का 0.2% होगा। यह पेमेंट तब तक जारी रहेगा जब तक पॉलिसीधारक काम पर वापस नहीं लौट जाता है। 

दुर्घटना के कारण अगर अस्‍पताल में भर्ती होने की जरूरत पड़ती है तो इलाज के खर्च को क्‍लेम किया जा सकता है। हालांकि इसमें कुछ शर्तों भी होंगी। इसमें बेस सम इंश्‍योर्ड का 10% तक मिलेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *