घरों को बनाने की कीमतें डेढ़ लाख रुपए तक बढ़ी

मुंबई- स्टील के आसमान छूते भाव अब खरीदारों को भी परेशान करने वाले हैं। आने वाले दिनों में घरों की कीमत बढ़ेगी। डेवलपर्स के अनुसार स्टील के दाम बढ़ने की वजह से घर बनाने का खर्च प्रति वर्ग फुट 150 रुपए तक बढ़ गया है। इससे एक हजार स्क्वायर फीट के घर की कीमत 1.5 लाख रुपए तक बढ़ सकती है। 

बीते एक साल के दौरान मुंबई में स्टील का थोक भाव 55% बढ़कर 58 हजार रुपए प्रति टन पर पहुंच गया है। यह 1 जनवरी 2020 को 37.5 हजार रुपए प्रति टन था। ब्रोकरेज कंपनी इडलवाइज के मुताबिक थोक स्टील का दाम बीते एक हफ्ते में 2,750 रुपए प्रति टन बढ़ा है। इसके बाद स्टील डीलरों ने भी दाम बढ़ाए हैं। 

मध्य प्रदेश क्रेडाई के अध्यक्ष वासिक हुसैन ने बताया कि घर बनाने में प्रति स्क्वायर फीट 10 किलो स्टील का इस्तेमाल होता है। कीमत बढ़ने से इसकी लागत 550 रुपए से 600 रुपए के करीब हो गई है, जो पहले 400 रुपए थी। यानी एक औसत घर जिसका क्षेत्रफल दो हजार स्क्वायर फीट है, उसे बनाने का खर्च करीब 3 लाख रुपए तक बढ़ जाएगा। इसका सीधा असर घर खरीदारों की जेब पर पड़ेगा। 

कंस्ट्रक्शन में इस्तेमाल होने वाले स्टील का ज्यादातर उत्पादन दक्षिणी और पूर्वी क्षेत्रों के छोटे और सेकंडरी मिल करते हैं। कोरोना के कारण कामगारों की कमी और कच्चे माल के आसमान छूते भाव की वजह से इनका उत्पादन घटा है। सरकारी खनन कंपनी NMDC ने आयरन ओर की कीमत बीते 6 महीने में 135% बढ़ा दी है। दिसंबर में इसकी कीमत 4,610 रुपए टन हो गई, जो जून में 1,960 रुपए प्रति टन थी। 

स्टील की बढ़ती कीमत पर सरकार भी चिंतित है। केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने शनिवार को स्टील उत्पादक कंपनियों के साथ-साथ सीमेंट कंपनियों को भी कड़ी फटकार लगाई। उन्होंने कहा कि स्टील और सीमेंट बढ़ते भाव से सरकार की परियोजनाओं को झटका लगेगा। सरकार की योजना 5 सालों में करीब 111 लाख करोड़ रुपए निवेश करने की है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.