44 साल के निचले स्तर पर पहुंच सकती है चीन की ग्रोथ, 2021 में 8.4 % की दर से बढ़ेगी

मुंबई– चीन की अर्थव्यवस्था की बढ़त 2020 में 44 साल के निचले स्तर पर पहुंच सकती है। हालांकि 2021 में यह 8.4% की दर से बढ़ेगी। 2020 में जहां कोविड-19 का असर अर्थव्यवस्था पर दिखेगा, वहीं 2021 में इसमें वापसी की उम्मीद है।  

विश्व की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था चीन के बारे में अनुमान है कि यह 2020 में 2.1% की दर से बढ़ेगी। 37 एनालिस्ट के साथ किए गए सर्वे में यह बात सामने आई है। यह जुलाई में लगाए गए अनुमान 2.2% की दर से कम रहेगी। हालांकि इसके साथ यह भी कहा गया है कि पूरी दुनिया में केवल चीन ही एकमात्र ऐसी अर्थव्यवस्था होगी जो 2020 में बढ़त हासिल करेगी। चीन की अर्थव्यवस्था की रिकवरी तीसरी तिमाही में रफ्तार पकड़ी है। क्योंकि कोरोना का असर धीरे-धीरे कम हुआ है। हालांकि यह अनुमान से कम रही है। सर्वे का अनुमान है कि चौथी तिमाही में सालाना आधार पर सकल घरेलू उत्पाद (GDP) 5.8 % की दर से बढ़ सकती है। यह जुलाई-सितंबर में 4.9% थी।  

चीन की ग्रोथ के बारे में सर्वे में अनुमान लगाया गया है कि 2021 में यह 8.4 % की दर से बढ़ेगी। हालांकि इस दौरान वैश्विक अर्थव्यवस्था भी रिकवरी करेगी। अनुमान के मुताबिक, मजबूत निर्यात और घरेलू खपत तथा निवेश के कारण चौथी तिमाही अच्छी रह सकती है। 2021 के वित्तीय वर्ष की पहली छमाही में ग्रोथ की रफ्तार अच्छी रहने की उम्मीद जताई गई है।  

अमेरिका के साथ बढ़ रहे तनावों के बीच, चीन 2021 से 2025 के दौरान आर्थिक व्यवस्था पर फोकस करने के लिए टॉप लीडर्स की मीटिंग भी कर रहा है। चीन की कोशिश यह है कि इकोनॉमिक ग्रोथ के साथ जोखिम को भी कम किया जाए। हालांकि इस साल डेट के अस्थाई तौर पर बढ़ने की उम्मीद है। विश्लेषकों का अनुमान है कि चीन 2021 के अंत तक एक साल का लोन प्राइम रेट (एलपीआर) 3.85% के स्तर पर रख सकता है। चीन के केंद्रीय बैंक ने पिछले 6 महीनों से इसमें कोई बदलाव नहीं किया है। हालांकि इसने पिछले साल के अगस्त से लेकर अब तक 46 बीपीएस (.46%) की कटौती किया है।  

सर्वे में यह भी अनुमान लगाया गया है कि बेंचमार्क डिपॉजिट रेट में 2021 के अंत तक कोई बदलाव नहीं होगा। पीपल्स बैंक ऑफ चाइना ने इसमें अक्टूबर 2015 के बाद से कोई बदलाव नहीं किया है। चीन का कंज्यूमर प्राइस इंडेक्स (सीपीआई) 2020 में 2.7% की दर से बढ़ने का अनुमान है। यह 2019 में 2.9 प्रतिशत की दर से बढ़ी थी। 2021 में 2.1 प्रतिशत की दर से सीपीआई के बढ़ने का अनुमान लगाया गया है।  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *