300 ऑटो डीलर्स के शोरूम बंद, संकट में बचाने के लिए मारुति सुजुकी, टाटा मोटर्स और होंडा मोटर साइकिल ने शुरू की मदद

मुंबई– मारुति सुजुकी, टाटा मोटर्स और होंडा मोटरसाइकिल एंड स्कूटर इंडिया (एचएमएसआई) जैसे कार और बाइक निर्माता ऑटो डीलर्स को बचाने के लिए मैदान में आ गए हैं। यह कंपनियां डीलर्स को नकदी की सहायता के साथ अन्य कई तरह से इन्हें संकट से पार करने में जुटी हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि हाल में काफी सारे डीलर्स की रोजी रोटी बंद हो गई है। अब तक 300 ऑटो डीलर्स ने अपनी दुकानें बंद कर दी हैं। 

मार्च में लॉकडाउन के बाद पहली बार ऑटो की रिटेल बिक्री शून्य पर आ गई। डीलर्स पहले से ही परेशान थे। ऊपर से लॉक डाउन ने उनकी कमर तोड़ दी। इनका वोल्यूम 18 प्रतिशत गिरकर 2.15 करोड़ हो गया। हालात इतने बुरे हो गए कि वित्त वर्ष 2020 के दौरान 300 डीलर्स ने हमेशा के लिए अपनो शोरूम बंद कर दिए हैं। इन डीलर्स के लिए कोई भी मदद के लिए आगे नहीं आया। हालांकि ऑटोमोटिव कंपनियों को इस स्थिति के बारे में पता था और समय रहते इन्होनें पूरी मंदी टाल दी। ऑटोमोटिव कंपनियों द्वारा पिछले कुछ महीनों के दौरान लोन, कर्ज की लंबी अवधि, उच्च मार्जिन, ब्याज सब्सिडी, बैंकों और वित्तीय संस्थानों से इन्वेंट्री लोन हासिल करने में मदद जैसी वित्तीय सहायता दी गई है। 

मारुति सुजुकी इंडिया के मुख्य वित्तीय अधिकारी अजय सेठ ने कहा कि कारोबार के अचानक रुकने से सप्लायर्स और डीलर्स के कैश फ्लो पर बड़ा दबाव पड़ा था। मारुति ने उन्हें नकदी प्रवाह सहायता प्रदान की जिससे कि वे यह सुनिश्चित कर सकें कि वे सैलरी का भुगतान और अन्य दायित्वों को पूरा करने में सक्षम हों। हाल ही में एक एजीएम में शेयरधारकों को जवाब देते हुए टाटा मोटर्स के अध्यक्ष एन चंद्रसेकरन ने कहा था कि टाटा मोटर्स अपने डीलर्स के साथ बहुत सक्रिय रूप से जुड़ा हुआ है। डीलर इन्वेंट्री अब तक सबसे कम स्तर पर है। तय लागत वाले लोन प्रदान किए गए हैं और मार्जिन एडजस्टमेंट किया गया है। 

देश के दूसरे सबसे बड़े दोपहिया वाहन निर्माता एचएमएसआई ने अपने डीलर्स, सप्लायर्स और सेवा प्रदाताओं की मदद के लिए 1,700 करोड़ रुपए के पैकेज के हिस्से के रूप में प्रोत्साहन और रिइंबर्समेंट का एडवांस भुगतान किया। न केवल बाइक और कार निर्माताओं ने जुलाई से अपनी कीमतों में वृद्धि की है बल्कि उन्होंने डीलर का मार्जिन भी बढ़ाया है। सूत्रों का कहना है कि कुछ कंपनियों का लॉकडाउन के उठने और शोरूम को फिर से खोलने के बाद हाल के सप्ताहों में मार्जिन बढ़ा है। 

वित्त वर्ष 20 में ही 300 से अधिक डीलर ने स्थायी रूप से अपने शटर गिराए। पिछले तीन साल में बंद हुए 370 डीलर्स में से करीब 14 मारुति सुजुकी के थे। टाटा मोटर्स उन कंपनियों में से एक थी जिन्होंने डीलर्स पर बिक्री के दबाव को कम करने के लिए इन्वेंट्री में महीने दर महीने कमी हासिल करने का दावा किया था। फेडरेशन ऑफ ऑटोमोबाइल डीलर्स एसोसिएशन (फाडा) ने कहा कि अगस्त में रिटेल बिक्री पिछले साल के मुकाबले 60-70 प्रतिशत कम थी। फाड़ा 15,000 से अधिक डीलर्स का प्रतिनिधित्व करता है। लगभग 40 लाख लोगों को रोजगार इन डीलर्स के जरिए मिलता है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *