एफडी की तुलना में बेहतर लाभ दे रहे हैं पेंशन फंड, सालाना 10 प्रतिशत की दर से मिल रहा है रिटर्न

मुंबई- आप अगर अभी भी परंपरागत निवेश जैसे एफडी या किसी और निवेश के साधन में निवेश कर रहे हैं तो आपके लिए पेंशन फंड एक बेहतर विकल्प साबित हो सकता है। कारण कि पेंशन फंड एफडी की तुलना में दोगुना के करीब रिटर्न दे रहा है।  

म्यूचुअल फंड हाउस के तमाम पेंशन फंड के आंकड़ों से पता चलता है कि तीन सालों में इसने 8 प्रतिशत से ज्यादा का रिटर्न दिया है। जबकि पांच सालों में यह 10 प्रतिशत से ज्यादा है। हालांकि पिछले एक साल में म्यूचुअल फंड के डेट निवेश को लेकर निवेशकों का विश्वास जरूर हिला है, पर पेंशन फंड या रिटायरमेंट फंड में निवेशकों को बेहतरीन लाभ मिला है।  

नेशनल पेंशन सिस्टम के कॉर्पोरेट बांड फंड्स ने तीन से पांच सालों में स्थिर रिटर्न निवेशकों को दिया है। आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल म्यूचुअल फंड के पेंशन फंड ने तीन सालों में 9.07 प्रतिशत का लाभ दिया है। जबकि पांच सालों में इसने 10.06 प्रतिशत का लाभ दिया है। इसी तरह एसबीआई पेंशन फंड ने इसी अवधि में 9.19 और 10.05 प्रतिशत का लाभ निवेशकों को दिया है। कोटक पेंशन फंड ने तीन साल में 8.05 प्रतिशत और पांच सालों में 9.52 प्रतिशत का रिटर्न निवेशकों को दिया है। यूटीआई रिटायरमेंट सोल्यूशंस ने तीन सालों में 8.79 प्रतिशत का मुनाफा दिया है तो पांच सालों में इसने 9.8 प्रतिशत का मुनाफा दिया है। एलआईसी पेंशन फंड ने इसी अवधि में 8.98 और 9.93 प्रतिशत का रिटर्न निवेशकों को दिया है।  

इस कैटिगरी ने पांच सालों में 9.52 से 10.23 प्रतिशत के बीच रिटर्न दिया है। हालांकि कॉर्पोरेट बांड कैटिगरी ने महज 7.78 प्रतिशत का रिटर्न दिया है। दरअसल नेशनल पेंशन सिस्टम (एनपीएस) इक्विटी, कॉर्पोरेट, डेट, सरकारी सिक्योरिटीज और अल्टरनेटिव असेट स्कीम में निवेश करता है। इन सभी निवेश का प्रबंधन पेंशन फंड मैनेजर्स द्वारा किया जाता है। इसका प्रबंधन सात फंड मैनेजर्स करते हैं। इसमें एलआईसी पेंशन फंड, यूटीआई रिटायरमेंट सोल्यूशंस, एसबीआई पेंशन फंड, आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल पेंशन फंड, एचडीएफसी पेंशन फंड, कोटक पेंशन फंड और बिरला सन लाइफ पेंशन हैं।  

आप पेंशन फंड का चयन एक्टिव या ऑटो पसंद के आधार पर कर सकते हैं। एक्टिव के तहत आप यह फैसला कर सकते हैं कि आपका निवेश किस असेट क्लास के बीच होगा। अगर आप ऑटो च्वाइस को चुनते हैं तो आप को स्कीम के बारे में पहले बताया जाएगा। यह आपकी उम्र के आधार पर होगा। इसमें 35 से 45 साल की उम्र के निवशक निवेश कर सकते हैं। जैसे-जैसे आपकी उम्र बढ़ती जाएगी आपका निवेश इक्विटी से सरकारी सिक्योरिटीज की ओर जाएगा। क्योंकि यह  ज्यादा सुरक्षित होता है और उम्र के आधार पर आपकी जोखिम लेने की क्षमता कम हो जाती है।  इसका उद्देश्य आपके निवेश को सुरक्षित रखना है और बाजार के उतार-चढ़ाव से रिटायरमेंट पर असर को कम करना है।  

वर्तमान में आप एनपीएस कॉर्पस का 60 प्रतिशत हिस्सा 60 साल की उम्र में निकाल सकते हैं। इसके लिए आपको कोई टैक्स नहीं देना होगा। बाकी की 40 प्रतिशत राशि से आप जीवन बीमा कंपनियों से एन्यूटी खरीद सकते हैं। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *