सेबी ने रिलायंस सिक्योरिटीज के डीलर्स सहित 27 लोगों और कंपनियों को बाजार में कारोबार करने पर प्रतिबंध लगाया

मुंबई-पूंजी बाजार नियामक सेबी ने रिलायंस सिक्योरिटीज लिमिटेड के डीलर सहित 27 कंपनियों और व्यक्तिगत लोगों पर शेयर बाजार में कारोबार करने पर प्रतिबंध लगा दिया है। फ्रंट रनिंग कारोबार के मामले में यह प्रतिबंध लगाया गया है। सेबी ने 78 पेज के एक आदेश में यह जानकारी दी है। इस आदेश के बाद ये लोग शेयर बाजार में कारोबार नहीं कर पाएंगे। इसमें मीना वीरा, भावेश गांधी और अभिजीत जैन सहित अन्य लोगों का समावेश है।  

सेबी ने कहा कि ये सभी लोग रिलायंस सिक्योरिटीज के डीलर से संपर्क में थे। ये लोग फ्रंट रनिंग का काम करते थे। इसमें तमाम लोग एक दूसरे से कनेक्टेड थे और शेयरों की खरीदी और बिक्री करते थे। सेबी की आंतरिक जांच से जब फ्रंट रनिंग का पता चला तो सेबी ने इसमें जांच की। इसमें दिसंबर 2019 और जनवरी 2020 में मीना वीरा के खिलाफ फ्रंट रनिंग का मामला पाया गया। मीना को टाटा अब्सोल्यूट रिटर्न फंड के मामले में फ्रंट रनिंग का दोषी पाया गया।  

सेबी ने जब इस जांच को आगे बढ़ाई और केवाईसी की जानकारी मांगी तो इसमें कई बातें पता चलीं। इसमें कॉल डाटा रिकॉर्ड, सोशल मीडिया पोस्ट और फेसबुक कनेक्शन से पता चला कि इसमें कई लोग आपस में ही रिश्तेदार हैं। ये लोग तमाम कंपनियों में इसी तरह से काम कर रहे हैं। सेबी ने इसमें फिर हर्षल वीरा, भावेश गांधी और अभिजीत जैन को दोषी पाया। सेबी को यह पता चला कि मीना वीरा हर्षल वीरा की मां हैं और हर्षल वीरा रिलायंस सिक्योरिटीज में डीलर हैं। इसके अलावा इसमें जो लोग दोषी पाए गए वे सभी एक दूसरे से कनेक्टेड थे।  

इस पूरे मामले में जितने भी लोग थे सभी इंट्रा डे कारोबार करते थे और कमाई कर निकल जाते थे। सेबी ने पाया कि ये लोग बाय बाय सेल और सेल सेल बाय की रणनति अपनाते थे। यह पूरी तरह से फ्रंट रनिंग का मामला था। इसी आधार पर सेबी ने कुल 27 लोगों को बाजार में कारोबार करने पर प्रतिबंध लगा दिया।  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *