90 पुलिसवालों के मोबाइल जब्त, सभी को जेल भेजा जाएगा

मुंबई– सूत्रों की मानें तो मामले की जांच कर रही एसटीएफ ने चौबेपुर के अलावा शिवली, शिवराजपुर और बिल्हौर थाने के 90 पुलिसकर्मियों के मोबाइल जब्त किए हैं। आईजी मोहित अग्रवाल ने बताया कि जो भी घर का भेदी होगी, उसके खिलाफ अपराधी जैसा बर्ताव होगा। इससे पहले शनिवार को प्रशासन ने विकास दूबे के बिकरु गांव वाले घर को उसी जेसीबी से ढहा दिया था, जिससे उसने पुलिस का रास्ता रोका था। विकास दुबे के घर से 6 तमंचे, 25 कारतूस ओर 2 किलो विस्फोट, कील, 15 जिंदा बम मिले हैं। 

शनिवार सुबह ही पुलिस ने विकास के खास गुर्गे दयाशंकर अग्निहोत्री को एनकाउंटर के बाद गिरफ्तार किया था। यह इस हत्याकांड में पहली गिरफ्तारी थी। उस पर 25 हजार का इनाम था। उसने पुलिस को बताया कि विकास ने जिस बंदूक से फायरिंग की, वह मेरे नाम है। उसने यह दावा भी किया कि पुलिस की दबिश से पहले विकास के पास एक फोन आया था। इसके बाद हमले की प्लानिंग की गई। 

लखनऊ विकास प्राधिकरण विकास के लखनऊ के कृष्णानगर और इंद्रलोक कॉलोनी स्थित मकान की भी जांच कर रही है। रविवार को मकान की नपाई की गई। वहीं, देर शाम एसटीएफ की टीम ने विकास की मां सरला और परिवार के लोगों से पूछताछ की। करीब 2 घंटे चली पूछताछ में एसटीएफ को विकास के भाई दीप प्रकाश दूबे की पत्नी अंजली ने बताया कि उनके परिवार का विकास से कोई वास्ता नहीं है। इसलिए सरकार को जो कार्रवाई करनी है, विकास पर करें, उनके परिवार पर नहीं। दीप प्रकाश के घर से बरामद एंबेसडर कार को विनीत पांडे के नाम के व्यक्ति ने नीलामी में खरीदी थी। विकास ने विनीत को धमकाते हुए जबरन नीलामी में खरीदी कार को उठा लिया था। विनीत की शिकायत पर ही पुलिस ने केस दर्ज किया है।कानपुर देहात में न्यायालय के बाहर पुलिस का सख्त पहरा बिठाा दिया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *